Famous Hindi Quotes by Kabir

Famous Hindi Quotes by Kabir

जिस तरह चिड़िया के चोंच भर पानी ले जाने से नदी के जल में कोई कमी नहीं आती, उसी तरह ज़रूरत मंद को दान देने से किसी के धन में कोई कमी नहीं आती ।
– कबीरदास

दुःख के समय सभी भगवान् को याद करते हैं पर सुख में कोई नहीं करता।

यदि सुख में भी भगवान् को याद किया जाए तो दुःख हो ही क्यों ?

– कबीरदास

इस संसार का नियम यही है कि जो उदय हुआ है,वह अस्त होगा।

जो विकसित हुआ है वह मुरझा जाएगा।

जो छीना गया है वह गिर पड़ेगा और जो आया है वह जाएगा।

– कबीरदास

जो कल करना है उसे आज करो और और जो आज करना है उसे अभी करो , कुछ ही समय में जीवन ख़त्म हो जायेगा फिर तुम क्या कर पाओगे ?

– कबीरदास

पुरुषार्थ से स्वयं चीज़ों को प्राप्त करो , उसे किसी से मांगो मत।

– कबीरदास

जो हमारी निंदा करता है, उसे अपने ज़्यादातर पास ही रखना चाहिए।

वो तो बिना साबुन और पानी के हमारी कमियां बता कर हमारे स्वभाव को साफ़ करता है।

– कबीरदास

ना तो अधिक बोलना अच्छा है, ना ही ज़रूरत से ज़्यादा चुप रहना ही ठीक है।

जैसे बहुत अधिक वर्षा भी अच्छी नहीं और बहुत अधिक धूप भी अच्छी नहीं है।

– कबीरदास

मन में धीरज रखने से सब सम्भव होता है ।

अगर कोई माली किसी पेड़ को सौ घड़े पानी से सींचने लगे तब भी फल तो ऋतु आने पर ही लगेगा ।

– कबीरदास

इस संसार में ऐसे सज्जनों की ज़रूरत है जैसे अनाज साफ़ करने वाला सूप होता है।

जो सार्थक को बचा लेंगे और निरर्थक को उड़ा देंगे।

– कबीरदास

कुछ लोग भगवान का ध्यान फल और वरदान की आशा से करते हैं, भक्ति के लिए नहीं।

ऐसे लोग भक्त नहीं; व्यापारी हैं, जो अपने निवेश का चैगुना दाम चाहते हैं।

– कबीरदास

तेरा घर कसाई के पास है तो क्या ?उसकी हरकतों के लिए तू ज़िम्मेदार नहीं है।अर्थात, अपने कर्मों का फल सबको खुद ही भुगतना पड़ता है।

– कबीरदास

ध्यान होता है मन को स्थिर करने से, क्रियाएं करने से नहीं।

– कबीरदास

Share this post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *