Blog

बच्चों में नैतिक शिक्षा की कमी

भारत अपने संस्कार और संस्कृति के लिए पूरे विश्व भर में विख्यात है,पूरी दुनिया भारतीय संस्कृति का लोहा मानती है,और यही संस्कार बच्चों में कम उम्र में ही उनके माता पिता डाल देते हैं और इसी का असर जीवन भर उनके ज़ेहन में  रहता है,क्योंकि इसके अभाव में बच्चे बिगड़ जाते हैं या कामयाब...

देश की आत्मा गांव में बसती है ‘

भारत एक ऐसा देश है जहां विभिन्न तरह के रीति रिवाज़,संस्कृति,संस्कार ,वेश भूषा है जो भारत को विश्व का सबसे संस्कृतिक देश बनाती है,इस संस्कृति में चार चांद लगाते हैं इस देश के गांव,जहां अपार खुशियां हैं ,जहां की गोद में जन्मे हैं इस देश के कर्मवीर जिन्होंने भारत को आज़ाद करने के लिए...

नीम के फायदे

प्रकृति ने जिस तरह से हमें इस धरती पर अवतरित किया है उसी तरह हमें जीवन को जीने के लिए भी तरह तरह के स्रोत दिए है जो सीधे तौर पर हमारे लिए फायदेमंद हैं,हालांकि मौजूदा हालात को देखते हुए ये स्पष्ट है कि हम उन प्राकृतिक चीज़ों को सफलतापूर्वक प्रयोग करने में असक्षम...

अनुशासन

जीवन को जीने के कुछ मूल भूत सिद्धांत होते हैं जिनपर चलकर ही हम अपने जीवन को खुशियों से भर सकते हैं,अनुशासन उनमें से एक है,इसकी ज़रूरत हर व्यक्ति को अपने जीवन काल में होती है,हालांकि कुछ ही इसके अनुसार जीवन बिता पाते हैं,लेकिन फिर बात ये भी है कि सफलता भी वैसे ही...

इनर इंजीनियरिंग

इस भाग दौड़ भरी ज़िन्दगी में हम दूसरों को समय देते हुए खुद के लिए अक्सर समय निकालना भूल जाते हैं और बाद में पछतावे के सिवाय कुछ नहीं रह जाता , अक्सर ऐसा देखा जाता है कि लोग स्वयं को ही नहीं समझ पाते है और दूसरों को राय या परामर्श देते है...

जान है तो जहान है

आजकल की दुनिया जहां सबकुछ वर्चुअल हो चुका है, दोस्ती , रिश्ते सबकुछ आभासी से प्रतीत हो रहे हैं इसमें स्पष्ट है कि रिश्ते की गुणवत्ता में कमी आ रही है,नज़दीकियां तो है लेकिन नज़दीक नहीं हैं,ऐसे में तमाम तरह की विसंगतियां घेर रही है इंसान को,और नियम विरूद्ध कदम उठाने लग रहा है...

मस्तिष्क के दो पहलू

हमारे शरीर की संरचना कुछ ऐसी है कि जहां कहीं भी(शरीर के अंदर) कोई सूचना को पहुंचाना हो तो मस्तिष्क तुरंत सक्रिय हो जाता है और उस सूचना को पहुंचाता है और इस प्रकार से हमारा शरीर हर तरह से मस्तिष्क के बनाए बंधन से बंधा हुआ है।लेकिन ऊहापोह में इंसान हो जाता है,...

भारतीय संस्कृति

दुनिया की प्राचीनतम संस्कृति में से एक है भारत की संस्कृति,जिसमें भारत का इतिहास,भूगोल और कई प्रकार की सभ्यता सुनहरे अक्षरों में गढ़ी हुई है,यही नहीं भारत की संस्कृति ने ही कई धर्म को भी जन्म दिया है,वैदिक जीवन के विकास से लेकर बौद्ध धर्म की शुरुआत तक सभी की साक्षी है भारतीय संस्कृति,हालांकि...

अद्वैतवाद

वेदांत का वह सिद्धांत जिसमें जीव और ब्रम्ह को स्पष्ट तौर पर एक समान दिखाया गया है अर्थात् आत्मा और परमात्मा को एक ही माना गया है,इसी दर्शन को अद्वैतवाद कहते हैं,अद्वैतवाद सनातन धर्म के प्रभावशाली मतों में से एक है,अद्वैतवाद एक संस्कृत शब्द है जिसका मतलब एकत्ववाद से है अर्थात् दो ना होना।आत्मा...

वैचारिक मतभेद

प्रत्येक इंसान अपने विचारों से पूर्ण जाना जाता है,विचारों की ही प्रौढता उस इंसान का व्यक्तित्व बताती है और उसे  सफल बनाने का काम करती है ,हम ये भी कह सकते हैं कि हम जिस से भी किसी प्रकार का संबंध स्थापित करते हैं उसकी एक महत्वपूर्ण वजह भी वैचारिक मध्यस्थता है,अगर हमारे विचार...