ज़िंदगी खुशियां बटोरते बटोरते पता नहीं कब निकल गयी, अब पता चला कि खुश तो वो थे जो खुशियां बाँट रहे थे!

ज़िंदगी खुशियां बटोरते बटोरते पता नहीं कब निकल गयी, अब पता चला कि खुश तो वो थे जो खुशियां बाँट रहे थे!