वो तरक्की किस काम की, जो बुढ़ापे में माँ बाप का सहारा ना बन सके।