रास्ते में मंदिर मस्जिद मिले और आप प्राय ना करें कोई बात नहीं, मगर कभी रस्ते में एम्बुलेंस मिले तो प्राथना ज़रूर करना शायद आपकी दुआ से किसी की ज़िंदगी बच जाए।

रास्ते में मंदिर मस्जिद मिले और आप प्राय ना करें कोई बात नहीं, मगर कभी रस्ते में एम्बुलेंस मिले तो प्राथना ज़रूर करना शायद आपकी दुआ से किसी की ज़िंदगी बच जाए।