यही जज़्बा रहा तो मुश्किलों का हल भी निकलेगा ज़मीं बंजर हुई तो क्या वहीं से जल भी निकलेगा!