बंद तकदीर के ताले वही लोग खोलते हैं, जिन्होंने अपने हुनर से चाबी बनाई होती है।