प्रेम के बिना जीवन फूलों या फल के बिना पेड़ की तरह है।