प्रशंसा वह हथियार है जिससे शत्रु को भी मित्र बनाया जा सकता है।