परनिंदा से किसी को लाभ नहीं हुआ जिसने अपना व्यक्तित्व संवारा वही सफल हुआ। “