दीपक इसलिए वंदनीय है क्योंकि वह दूसरों के लिए जलता है, दूसरों से नहीं।