तहज़ीब सिखा दी मुझे एक छोटे से मकान ने, दरवाज़े पर लिखा था थोड़ा झुक कर चलिए ।