तजुर्बा तो धूप की सफर से ही मिलता है। छांव में तो केवल दान ही मिला करता है।