तकलीफ़ अकेलेपन से नहीं, अंदर के शोर से होती है।