जो मनुष्य अपने क्रोध को ख़ुद के ऊपर झेल जाता है, वो दूसरों के क्रोध से बच जाता है।