जीवन को केवल दो ही शब्द नष्ट करते हैं ‘अहम’ और ‘वहम’