ज़िंदगी साइकिल चलाने के जैसे है। बैलेंस बनाए रखने के लिए, आप को चलते रहना होता है।

ज़िंदगी साइकिल चलाने के जैसे है। बैलेंस बनाए रखने के लिए, आप को चलते रहना होता है।