जहाँ व्यक्तिगत स्वार्थ समाप्त होता है वहीं से इंसानियत की शुरुआत होती है। “