जब नाराज़गी अपनों से हो तो खामोशी ही भली, अब हर बात पर जंग हो ये ज़रूरी नहीं!