जब जब कोई बात प्रतिष्ठा का विषय बनती है तो वही बात सबसे ज़्यादा घातक होती है।