काम इस तरह करें जैसे की सब कुछ आप पर निर्भर है और प्रार्थना ऐसे करें जैसे सब कुछ ईश्वर पर निर्भर है।

काम इस तरह करें जैसे की सब कुछ आप पर निर्भर है और प्रार्थना ऐसे करें जैसे सब कुछ ईश्वर पर निर्भर है।