कामयाबी हाथों की लकीरों में नहीं , बल्कि माथे के पसीने में होती है।

कामयाबी हाथों की लकीरों में नहीं , बल्कि माथे के पसीने में होती है।