कलम, कदम और कसम हमेशा सोच समझ के ही उठाना चाहिए।