कर्मों से ही पहचान होती है इंसानों की, अच्छे कपड़े तो बेजान पुतलों को भी पहनाए जाते हैं।