“उठो, जागो, बढ़ो और तब तक मत रुको जबतक की लक्ष्य न प्राप्त हो जाए” – स्वामी विवेकानंद