इंसान की कामयाबी कदम तभी चूंबती है, जब उसे टूटे को जोड़ना और रूठे को मनाना आता हो।