अगर बात किसी इंसान की अच्छाई की चल रही हो तो सब चुप रहते हैं, और जब बात किसी की बुराई की हो तो गूंगे भी बोल उठते हैं।

अगर बात किसी इंसान की अच्छाई की चल रही हो तो सब चुप रहते हैं, और जब बात किसी की बुराई की हो तो गूंगे भी बोल उठते हैं।