जीवन में खुश रहने के तरीक़े

जीवन में खुश रहने के तरीक़े

जीवन एक कला है और इसमें जीने वाला इंसान एक कलाकार है ‘ और किसी भी कला से अगर हमें कुछ प्राप्त करना है तो ये ज़रूरी है कि उस कला में हम निपुण हों, और जीवन का सबसे ज़रूरी लक्ष्य या हम ये कहें की कलाकारी, खुश रहने में है,क्योंकि खुश रहने से ही हमारा तन और मन दोनों प्रसन्नचित होता है और हम सही तरह से सोच पाने में भी सक्षम होते हैं।

लेकिन इस भाग दौड़ भरी ज़िन्दगी में लोग अवसादग्रस्त,विषाद से भर जा रहे हैं तो ऐसे में जीवन में खुश रहने तो दूर की बात है एक पल के लिए खुश होना भी मुश्किल होता जा रहा है और यही वजह भी है कि पूरे विश्व में आए दिन लोग मानसिक संतुलन खो बैठते हैं और कभी कभी तो कुछ पागल भी हो जाते हैं,वहीं कुछ डोपामिन रिलीज़ होने के लिए दवा का भी सहारा लेते हैं,लेकिन जो चीज़ प्राकृतिक है उसे हम गैरप्राकृतिक तरीक़े से कर रहे हैं, कहीं ना कहीं दाल में कुछ तो काला है।

बहरहाल आइए देखते हैं क्या कारण हो सकता है:

१.एक रिपोर्ट के मुताबिक पूरे विश्व की आधी आबादी उस काम को करती है जिसमें उसका मन ही नहीं लगता ,केवल धनोपार्जन के लिए किसी तरह से ज़बरदस्ती काम करती है।

२.अत्यधिक सहनशीलता भी घातक है क्योंकि इसके दुष्परिणाम सीधे तौर पर मानसिक व्याधियों को नज़दीक लाते हैं।

३.खुश ना होने की वजह पारिवारिक कलह भी हो सकती है।

४.कई बार हम अपनी दिनचर्या ,जीवनशैली या अपनी कमियों को स्वीकार ना करके एक चकाचौंध में जीते हैं लेकिन जैसे ही वास्तविकता सामने आती है हम स्वयं को संभाल नहीं पाते और अवसादग्रस्त हो जाते हैं और खुशियां छिन जाती हैं।

तो ये कुछ वजह थे जिसकी वजह से इंसान खुश नहीं रह पाता, अब आइए देखते हैं इंसान को खुश रहने के लिए क्या करना चाहिए:

१.’ सुनें सबकी करें अपनी ‘ ये जितना सुन ने में तार्किक है उतनी ही इसकी महत्ता जीवन में उतारने की भी है, खुश रहने का पहला सोपान है कि हम वही काम करें जिस से हमें खुशी मिले।

२.हम आवश्यकता से अधिक सहनशील ना बने और जीवन में ‘ ना ‘ बोलने की भी आदत डालें क्योंकि कई बार हम संकोच वश बहुत कुछ नहीं बोल पाते और यही बात घर कर जाती है और हमें खुश रहने से वंचित कर देती है।

३.परिवार में शांति बनाए रखना इंसान की सबसे बड़ी चुनौती है इसलिए इस विषय पर गंभीरता से सोचें, जल्दबाजी में निर्णय बिल्कुल भी मत लें।

४.अपने जीवन में योग साधना, चिंतन का समावेश करें और खानपान का भी विशेष रूप से ध्यान रखें।

५.महान व्यक्तित्व की बातों का अनुसरण करें क्योंकि जीवन को उन्होंने बहुत ही सूक्ष्म तरीक़े से सोचा है, विवेकानन्द,गौतम बुद्ध,  जैसे महान व्यक्तित्व के सोच को पढ़ें और समझें।

इन सब विचारों को अगर आप अपने जीवन में बनाए रखें तो आपका जीवन ज़रूर खुशनुमा ही रहेगा और आप मानसिक तनाव से पूर्ण रूप से दूर रहेंगे।

Share this post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *