अनुशासन

अनुशासन

जीवन को जीने के कुछ मूल भूत सिद्धांत होते हैं जिनपर चलकर ही हम अपने जीवन को खुशियों से भर सकते हैं,अनुशासन उनमें से एक है,इसकी ज़रूरत हर व्यक्ति को अपने जीवन काल में होती है,हालांकि कुछ ही इसके अनुसार जीवन बिता पाते हैं,लेकिन फिर बात ये भी है कि सफलता भी वैसे ही कुछ  लोगों को मिल भी पाती है।

अनुशासन शब्द का मतलब होता है स्वयं के लिए बनाया हुआ वो शासन जो आपकी रोज़मर्रा  ज़िन्दगी को कायदे कानून से जीने में सहयोग करे ,ज्ञान और अनुशासन में काफी हद तक समानता है,और वो भी कुछ इस प्रकार से कि दोनों एक दूसरे के स्पष्ट पूरक है,दोनों में से किसी का अभाव ज्ञान के चरम लक्ष्य से आपको दूर कर सकता है,इसलिए अनुशासन को अपने जीवन में उतारना बेहद ज़रूरी है।

अब बात करते है अनुशासित जीवन के फायदे की :

१.अनुशासित जीवन में एक प्रकार का संतुलन होता है जो काम और निजी जीवन को संतुलित रखता है।

२.योग के माध्यम से भी अनुशासन को परिभाषित किया गया है और जीवन में उसकी भूमिका बताई गई है।

३.अनुशासन प्रिय व्यक्ति अपने जीवन को कभी भी बोझिल महसूस नहीं कर सकता है।

ये कुछ फायदे हैं जो अनुशासन ने व्यक्ति को दिए हैं,हालांकि आज की पीढ़ी को अगर देखा जाए,तो इस अनुशासन का कहीं ना कहीं लोप हो रहा है,आज की पीढ़ी डिजिटल पीढ़ी है,जिसने शायद अनुशासन को भी डिजिटल ही समझ रखा है,लेकिन वास्तविकता तो इस से परे है।

हमें उम्मीद है कि आने वाले समय में इंसान ,अनुशासन का महत्व समझते हुए काम करेगा और जीवन को अत्यंत सुखमय बनाकर ढोने के बजाय जीएगा,और प्रेरणास्रोत बनेगा।

Share this post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *