Astrology

एक ही राशि के दो लोगों की जोड़ी सफल या असफल?

एक ही राशि के दो लोगों की जोड़ी सफल या असफल?
आज एक-एक करके सभी बारह राशि की जोड़ी उसी राशि के साथ बनाकर देखते हैं कि उनके स्वभाव की कौन-कौन सी खासियत उन्हें एक-दूजे से मिलाती है या फिर जोड़ी को बिगाड़ती है।
लोगों में इस बात की काफी उत्सुकता पाई गई है कि उनकी जोड़ी किसके साथ जमेगी। ज्योतिष शास्त्र की मदद से वे राशि अनुसार इस बात की तुलना करते रहते हैं कि उनकी राशि की किसके साथ बनेगी!
ज्योतिष शास्त्र की बारह राशियां, जो कि व्यक्ति के स्वभाव और उनके गुण-अवगुणों की व्याख्या करती हैं, इन राशियों पर किए गए विभिन्न अध्ययनों के अनुसार कुछ राशियां ऐसी होती हैं जिनकी जोड़ी सर्वोत्तम कहलाती है। लेकिन वहीं दूसरी ओर कुछ राशियों को ज्योतिष शास्त्र कभी भी एक होने की सलाह नहीं देता।




1. मेष राशि की जोड़ी मेष के साथ-

शुरुआत करते हैं क्रम की पहली राशि मेष से। अगर मेष के वर की इसी राशि की वधु के साथ जोड़ी बना दी जाए तो क्या होगा? ज्योतिष शास्त्र के अनुसार ऐसी जोड़ी एक जलती हुई ज्वालामुखी है जो कभी भी फट सकती है।
मेष के लोगों में बेहद क्रोध पाया जाता है, वे जिंदगी को अपने तरीके से जीना पसंद करते हैं। इनमें घमंड भी काफी होता है, इसलिए जब ऐसे तत्व दोनों में पाए जाएं और दोनों में से कोई भी अपनी बात से पीछे हटने को राजी ना हो तो वहां एक बड़ी तकरार रूप लेती है। ऐसी जोड़ियां लंबे समय तक साथ नहीं निभाती।

2. वृष राशि की जोड़ी वृष के साथ-

वृष के लोग जमीन से जुड़े हुए नर्म दिल के इंसान होते हैं। इन्हें अपने कार्य के प्रति जिम्मेदार रहना और हर कर्तव्य को एक जुनून के साथ निभाना पसंद है। जब दोनों ही लोग इस स्वभाव के हों और साथ मिलकर काम करें तो यह जोड़ी एक उत्तम जोड़ी के मार्ग पर चलने लगती है।

3.मिथुन की मिथुन राशि के साथ-

मिथुन के जातकों को दोहरे व्यक्तित्व वाला कहा जाता है। दरअसल स्वभाव का कोई ऐसा गुण या अवगुण नहीं है, जो इनमें ना हो। कभी ये बेहद क्रोधी हैं तो कभी बेहद चुपचाप जैसे कभी गुस्सा आता ही ना हो। इसलिए इस राशि के दो लोग जब साथ मिल जाएं, तो ऐसी जोड़ी की सफलता का अनुमान लगा पाना कठिन है।अगर एक समय में दोनों की सोच एक जैसी चल रही हो तो वे इस रिश्ते में काफी आनंदित रहते हैं लेकिन जहां किसी एक की सोच ने दूसरा रुख लिया नहीं कि खटपट शुरू हो जाती है। इसलिए यह जोड़ी सफल होगी या नहीं, यह एक कठिन सवाल है।

4. कर्क की जोड़ी कर्क  के साथ-

कर्क राशि वालों को काफी भावुक माना जाता है, ये जिससे भी प्यार करते हैं उन्हें लेकर बेहद संवेदनशील हो जाते हैं। साथी का ध्यान रखना और उसे भरपूर समय देना अच्छी बात है लेकिन हर बात की अधिकता कई बार परेशानी का कारण बन जाती है। इसलिए जरा संभलकर चलें।

5.सिंह की सिंह के साथ जोड़ी-

गलती से भी इस राशि के दो लोगों को एक नहीं होना चाहिए। दोनों का भरपूर क्रोध, अहंकार और केवल खुद से प्यार करने का रवैया रिश्ते को बिगाड़ देता है। इस राशि की जोड़ी को आप एक ऐसे टाइम बॉम्ब का नाम दे सकते हैं जो कभी भी विस्फोट कर सकता है।

6. कन्या का कन्या राशि के साथ मिलन –

मेड फॉर ईच अदर”… कुछ ऐसी ही है ये जोड़ी। कन्या राशि का कन्या के ही जातक के साथ प्यार और विवाह, दोनों सफल कहलाते हैं। यह जोड़ी सर्वोत्तम है, प्यार से लेकर आपसी समझ में भी अव्वल होते हैं कन्या के जातक।

7. तुला के साथ तुला राशि की जोड़ी-

कन्या राशि की तरह ही तुला के जातकों की जोड़ी सफल कहला सकती है और समाज के सामने के मिसाल खड़ी कर सकती है, लेकिन एक शर्त पर। अगर ये दो लोग एक-दूसरे के अवगुणों को अपनाकर, उन्हें स्वीकार कर लें तो इस जोड़ी को भविष्य में कभी कोई परेशानी नहीं आएगी।
तुला के जातक समझदार होते हैं, हर बात को तोल-मोलकर समय लेकर करते हैं। ये लोग जल्दबाजी में गलत फैसला लेने में विश्वास नहीं रखते। इसलिए रिश्तों को लेकर ऐसे लोग कोई भूल नहीं करते।

8. वृश्चिक के साथ वृश्चिक राशि की जोड़ी-

एक-दूसरे के प्रति भरपूर आकर्षण और गहरा खिंचाव होता है वृश्चिक और वृश्चिक राशि से बनी जोड़ी के बीच। यह जोड़ी अमूमन सफल ही कहलाती है लेकिन तब तक जब दोनों में से कोई एक साथी धोखेबाजी ना करे।
धोखेबाजों की कतार में काफी आगे होते हैं वृश्चिक राशि के जातक। खुद के लिए ये किसी को भी नुकसान पहुंचा सकते हैं। लोगों से जलन रखना इनकी आदत है और ऐसा अहसास ये अपने रिश्ते में भी ला सकते हैं। अगर अवगुणों को दूर कर दिया जाए तो यह जोड़ी सफल बन सकती है।

 9. धनु के साथ धनु की जोड़ी-

रिश्ते की कमियों को खत्म करते हुए आगे बढ़ना और दोनों के बीच अच्छा रिश्ता कायम करना कोई धनु के जातक से सीखे। इस एक राशि के दो लोगों की जोड़ी खुशमिजाज होती है, लेकिन जब बात वायदे पूरे करने की आती है तो यहां ये लोग कुछ चूक जाते हैं। केवल इस एक कारण से यह रिश्ता कमजोर पड़ जाता है।

10. मकर का मकर राशि के साथ जोड़ी-

मकर के जातकों में त्याग की भावना काफी अधिक होती है और केवल यह गुण इनके रिश्ते को मजबूत बनाता है। ये केवल अपने साथी की खुशियों का ख्याल रखने वाले होते हैं, और जब दोनों राशियां ही मकर हैं तो जाहिर है कि रिश्ता खुशहाल ही बनेगा। किंतु जब स्वइच्छा पूर्ण करने की बातें आएं तो यहां आकर थोड़ी खटपट हो सकती है।

11.कुम्भ की कुम्भ राशि के साथ जोड़ी-

कुम्भ के जातक काफी मूडी होते हैं, कब ये किस मूड में हैं इसका पता नहीं चलता और यही कारण है कि इनके रिश्ते बिगड़ जाते हैं। जब तक इस राशि के दो लोगों का मूड अच्छा रहेगा तो रिश्ता कायम रहेगा, अन्यथा दिक्कतें आ सकती हैं।

12. मीन के साथ मीन राशि की जोड़ी-

सपनों की दुनिया में रहते हैं मीन के जातक। अपनी कल्पनात्मक शक्ति से ये लोग जीवन को कई उद्देश्यों में बुनते चले जाते हैं। अगर इस राशि के दो लोग साथ हो जाएं तो जिंदगी वाकई सुहानी बन सकती है।
मीन के जातक खुद से प्यार करते हैं और अपने आसपास के लोगों को भी खुश रखना जानते हैं। बस इनकी यही खासियत इनके रिश्ते को मजबूत बनाती है, फिर इनका साथी चाहे किसी भी राशि का हो फर्क नहीं पड़ता।

About the author

Nisha Shekhawat Adhikari

B.sc.(math)
MBA( HR & marketing)
She has participated in various functions as a speaker.
Content or blog writer by passion. She had written few blogs in DNA newspaper Jaipur and Some articles for college magazines.

Leave a Comment