Motivation

आत्मविश्वास बढ़ाये, सफलता पायें।Self confidence tips in Hindi

आत्मविश्वास
Written by vrinda khurana





कोई भी व्यक्ति चाहे कितना भी Intelligent क्यों न हो बिना आत्मविश्वास के वह सफलता प्राप्त नहीं कर सकता। दुनिया में जितने भी सफल व्यक्ति हैं, प्रत्येक में एक Quality जरूर होती है और वह है– आत्मविश्वास (Self-confidence).अतः आत्मविश्वास को सफलता का आधार भी कहा जा सकता है।

हममें से न जाने कितने ऐसे हैं जो सब तरह से होनहार होते हुए भी सफलता प्राप्त नहीं कर पाते या प्रतियोगिता की दौड़ में पीछे रह जाते हैं और उसका कारण होता है आपका self confidence यानी कि आत्मविश्वास अर्थात आपका खुद पर विश्वास। आज हम इसी विषय पर जानेंगे और बात करेंगे कि how can we increase self confidence?  सकारात्मक सोच से कैसे self confidence को बढ़ा सकते हैं? क्या failure होने पर हमें आत्मविश्वास में कमी आनी चाहिए?

सफलता पाएं

आत्मविश्वास एक ऐसी शक्ति है जो बड़े से बड़े तूफान को भी चीर कर आगे बढ़ने की हिम्मत देती है। self confidence एक ऐसी inner power है जो आपको failure होने पर भी कमजोर नहीं होने देती। बल्कि आत्मसिश्वास ही वो शक्ति है जो आपको सबसे पहले खुद से जोड़ती है और आपको सिखाती है कि पहले खुद को सम्मान दो यानी respect yourself.

आत्म विश्वास से परिपूर्ण व्यक्ति ही सुख, समृधि, शांति, को हासिल करने में सफलता प्राप्त कर सकता है, और कामयाब व्यक्तियों में आपको एक अलग ही confidence देखने को मिलता है। आप किसी भी फिल्म स्टार, businessmen, स्पोर्ट्स पर्सन को देख लीजिये जिनमें अलग ही तरह की आत्मविश्वास होता है।

अब आत्मविश्वासी होना तो हम सभी चाहते हैं लेकिन कैसे ? ये सवाल हमेशा बना रहता है। आज हम जानते हैं कैसे हम self confidence को अपने अंदर शामिल कर सकते हैं।

How we can increase self confidence?

Self confidence tips :-

1.कपड़े पहनने का तरीका बदलें(Improve Dressing Sense) :-

कपड़े आदमी को नहीं बनाते हैं, लेकिन जब आप अच्छे कपडे पहनते हो अर्थात आपका ड्रेसिंग सेंस अच्छा है तो आप अच्छा feel करते हो और आपकी physical appearance भी बेहतर होती है।

कपड़े पहनने का तरीका बदलें

जब आप कही बाहर, party, function आदि में अच्छे dressing sense के साथ जाते हो तो आप अपने में विश्वास तो महसूस तो करते ही हो साथ ही साथ बाकी लोग भी आपको नोटिस करते हैं।

2. तेज चलें :-

अगर आप धीरे चलते हो तो लोग कहते हैं; थका हुआ, धीमा, दर्द हो रहा है क्या इत्यादि। कौन व्यक्ति कैसा है यह कोई भी उसकी चाल से आसानी से बता सकता है इसीलिए यह हमारी personality यानी व्यक्तित्व की एक महत्वपूर्ण कारक है।




तेज गति से चलना

आत्मविश्वासी व्यक्ति जल्दी चलते हैं। वह कही भी जाते हैं एक तेज चाल के साथ जाते हैं और स्फूर्ति के साथ लोगो से मिलते हैं।अगर आपको जल्दी चलने की आदत नहीं है तो आप सिर्फ 25% तेज गति से चलना शुरू करें और अपने में बदलाव देखें।

3. अच्छी मुद्रा (Good posture) :-

कोई व्यक्ति किस हाव-भाव के साथ लोगों से मिलता है यह भी बहुत मायने रखता है। झुके हुए कंधे, नीची नजरे, ढीला ढाला सा व्यक्तित्व आपको एकदम looser घोषित कर देता है।

अच्छी मुद्रा

इसीलिए अपने चलने, बैठने, बोलने, देखने आदि की मुद्राओ में सुधार लाते रहिये। सीधी कमर, ऊंचे कंधे, सीधी नजर आपके व्यक्तित्व को एकदम आकर्षक बना देती है और यह बताती है कि आपमें self confidence कितना है!

4. आभार महसूस करें :-

जब भी आप किसी भी चीज को पाने के लिए मेहनत करना शुरू करते हो तो आपका दिमाग आपको वह कारण बताने शुरू कर देता है कि आप क्यों यह चीज हासिल नहीं कर सकते?  और यही चीज आपमें हीनता महसूस कराती है।

आभार महसूस करें

इन हालातों को दूर करने का सबसे अच्छा तरीका यही है कि आप रोज शांत वातावरण में बैठे और भूतकाल में पायी हुई सफलता, प्रेम, अपनी योग्ताओं व सकारात्मक पलों के बारे में सोचे और पुनः उन्हें खुद में जिंदा करें। इसके बाद आप स्वयं महसूस करेंगे कि आप कितने आत्मविश्वासी हैं और यही सकारात्मक सोच आपको सफलता की ले जायेगी।

5. अन्य लोगों की तारीफ करें :-

जब भी हम अपने बारे में नकारात्मक सोचते हैं तो हम अक्सर दूसरे लोगो में भी बुराइयां देखना शुरू कर देते हैं और दूसरों की हार और failure में आनंद लेने लग जाते हैं। इसे दूर करने एक ही तरीका है कि आप दुसरे लोगों की अच्छाइयों की तारीफे करें, और ज्यादा से ज्यादा सकारात्मक बातें करें। इसके बाद आप देखेंगे कि आपका फ्रेंड सर्किल कितनी तेजी से बढता है और इसी के साथ आपका self confidence भी।

6. आगे बैठो :-

स्कूलों, कार्यालयों, और दुनिया भर में सार्वजनिक सभाओं में, लोग कमरे के पीछे बैठने के लिए प्रयास करते हैं। वे इसलिए करते हैं क्योंकि वह डरते हैं कि इससे वह लोगों की नजरो में आ जायेंगे। यह एक आत्मग्लानी, डर और low confidence का बहुत ही बड़ा लक्षण है। इसीलिए हमेशा प्रयास करें कि आप आगे बैठें। सिर्फ 3-4 बार के बाद ही आप देखेंगे की आपका डर ख़त्म होता जा रहा है। लोग आपको notice कर रहे हैं और self confidence तो आप खुद महसूस करोगे।

7. दूसरों की मदद :-

कई बार हमारा आत्मविश्वास इतना कम होता है कि हम सिर्फ अपने बारे में ही सोचते रहते हैं और डरते रहते हैं। हम दुसरे लोगो पर ध्यान देना ही बंद कर देते हैं।





दूसरों की मदद

अपने आसपास देखिये, जरुरतमंदो की जिस भी तरीके से मदद कर सकते हैं करें। दुनिया से डरे नहीं बल्कि दुनिया का एक हिस्सा बनें। तब आप वास्तव में जानोगे कि आत्मविश्वास क्या होता है और आप क्या क्या कर सकते हो!

8. आत्मविश्वास के लिए स्वस्थ रहना बहुत जरूरी है:-

आपने एक बात का अपने जीवन में जरूर अनुभव किया होगा कि जब आप स्वस्थ होते हैं तो आपका सभी कार्यों में मन लगता है और आपका आत्मविश्वास भी बढ़ा हुआ रहता है तथा जब आप अस्वस्थ होते हैं तो किसी भी कार्य में मन नहीं लगता और आपका आत्मविश्वास बहुत कम हो जाता है। अतः आत्मविश्वास का सीधा संबंध आपके स्वास्थ्य से है। अतः स्वस्थ रहिये।

9.किसी भी कार्य को टालें नहीं:-

कोई भी कार्य, चाहे छोटा हो या बड़ा, उसे समय रहते पूरा कर डालिये। यदि आप कार्यों को टालते हैं तो वह कार्य आपके ऊपर एक नकारात्मक दबाब बनाया है, जिससे आपका Confidence कम हो जाता है। और यदि आप अपने कार्यों को समय पर पूरा करते जाते हैं तो आपका आत्मविश्वास बढ़ता जाता है। कई कार्य एक साथ आयें तो सबसे पहले वह कार्य कीजिये जो सबसे जरूरी हो। इससे भी self confidence increase होता है।

10. रिस्क लेने से डरें नहीं:-

Risk लेना भी जीवन में सफल होने के लिए बहुत जरूरी है। बिना रिस्क के कोई सफलता प्राप्त नहीं कर सकता। यदि सफल हुए तो आत्मविश्वास बढ़ेगा और यदि असफल हुए तो सीख या सबक मिलेगी और जब भी हम कुछ सीखते हैं तो हमारा आत्मविश्वास बढ़ता है। कुछ लोग तो कहते हैं कि जितना बड़ा Risk होगा, सफलता भी उतनी ही बड़ी होगी और सफलता जितनी बड़ी होगी, आपका Confidence भी उतना ही increase होगा।

11. गलती से भयभीत होने के बजाय उससे सीखने का प्रयास करें :-

बहुत से लोग गलतियां करने से बहुत डरते हैं। दुनिया का कोई भी ऐसा सफल इंसान नहीं है जिसने कभी कोई गलती नहीं की हो। गलतियां तो होंगी लेकिन उन गलतियों से सीखना बहुत जरूरी है। यदि आपने अपनी गलतियों से सीखना शुरू कर दिया तो गलतियां आपको डरायेेंगी नहीं और आपका आत्मविश्वास भी बढ़ेगा। दुनिया में ऐसे बहुत से लोग हैं जिन्होंने अपने जीवन की सबसे बड़ी गलती के बाद ही अपने जीवन की सबसे बड़ी उपलब्धि प्राप्त की।

12. Eye contact बनाना सीखें :-

पूरे दिन में हमें बहुत से लोगों से मिलना होता है। जब भी किसी से मिलें तो उनसे Eye contact बनाये रखें। बहुत से लोग दूसरों से बात करते समय इधर-उधर देखते रहते हैं और सामने वाले से नजरें चुराते रहते है।

Eye contact बनाये रखें।

यह आत्मविश्वास की कमी का होना माना जाता है। लोगों से Eye contact बनाकर बात करने से हमारा Confidence increase होता है और सामने खड़े व्यक्ति को भी यह महसूस होता है कि उसकी बातों में दिलचस्पी ली जा रही है।

13. Respect yourself : –

Self respect एक ऐसा factor है जो आपको हमेशा रखना चाहिए। आप जैसे भी हैं, जो भी हैं अपनी मेहनत के बल पर हैं, अपनी योग्यता से हैं। तो स्वयं को किसी से भी हीन समझने की आवश्यकता नहीं है। respect yourself क्योंकि जब आप खुद का सम्मान करेंगे तो बाकी सब करेंगे। तो respect yourself and increase your confidence.

14. अंग्रेजी ना जानने का बहाना न करें :-

हमारे देश में अंग्रेजी का वर्चस्व है। अंग्रेजी  का ज्ञान आवश्यक है,पर सिर्फ  इसलिए क्योंकि इसके ज्ञान से आप  कई अच्छी पुस्तकें, ब्लॉग,पढ़ सकते  हैं,आप एक से बढ़कर movies, इत्यादि देख सकते हैं।पर क्या इस  भाषा का ज्ञान आत्मविश्वासी होने  के  लिए आवश्यक है? नहीं। English जानना आपको और भी confident बना सकता है पर ये confident होने के लिए ज़रूरी नहीं है। किसी  भी भाषा का मकसद शब्दों में अपने  विचारों को व्यक्त करना होता है , और अगर आप यही काम किसी  और भाषा में कर सकते हैं तो आपके लिए अंग्रेजी जानने की बाध्यता  नहीं है।

तो ये थे कुछ tips of how to increase confidence.

गाँधी जी ने भी कहा है “पहले वो आप पर ध्यान नहीं देंगे, फिर वो आप पर हँसेंगे, फिर वो आप से लड़ेंगे, और तब आप जीत जायेंगे।” तो  आप भी उन्हें अनदेखा कर दीजिये ,हंसने दीजिये, लड़ने  दीजिये, पर अंत में आप जीत जाएंगे। क्योंकि आप जीतने के लिए ही यहाँ हैं , हारने के लिए नहीं।।

Respect yourself, साकारात्मक सोच, दृढ़ निश्चय, खुद को हमेशा योग्य समझना ये कुछ महत्त्वपूर्ण कारक हैं जो आपको आत्मविश्वासी बनाएंगे।।

तो आज से ही खुद को आगे खड़ा करें और confident बनें।

About the author

vrinda khurana

Leave a Comment